सुविचार

होली के शुभ अवसर पर शब्द क्रान्ति की तरफ से हार्दिक बधाई एवं नव वर्ष की शुभकामनाये । ...

31 जुलाई 2015

डॉ कलाम को श्रद्धांजलि

देता हूँ श्रद्धांजलि करता हूँ कोटी-कोटी नमन ।
कैसे भूल पायेगा जो खिलाये आपने हिन्द में चमन ।
जगाया है जो आपने जन-जन में विश्वास ।
यही बात आपको बनाता है सबके खास ।
सर्व-धर्म-स्वभाव का जब आपने रखा ख्याल ।
बुद्धि, विवेक और कर्म से हिन्द को किया निहाल ।
नयन चक्षु प्लावित हुआ जब आपने जग छोड़ा ।
अन्तिम मिलन के खातिर सबने जाति-धर्म तोड़ा ।
जो दिया आपने नवयुवको को सफलता का मंत्र ।
बदल जाता है इससे जीवन का सारा तंत्र ।
मानते है सब आपको जीवन का प्रेरणास्त्रोत ।
कर्मों और विचारों से आपके होते है सब ओत पोत ।
व्यक्तित्व, कृतित्व और सादगी ये है आपकी पहचान ।
हिन्द नहीं भूल पायेगा जब तक रहेगा धरा-आसमान ।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें