सुविचार

नव वर्ष के शुभ अवसर पर शब्द क्रान्ति की तरफ से हार्दिक बधाई एवं नव वर्ष की शुभकामनाये । ...

25 सितंबर 2015

दिल्ली में डेंगू

सुनो भाई चंगू मंगू,
देखो आया दिल्ली में डेंगू l
चारो तरफ कोहराम मचाया,
सोती सरकार को जगाया ।
जब से डेंगू आई है,
डॉ साहेब की निंद हेराई है ।
बीमारी सुनकर जनता दंग,
मच्छर साहेब बजाते मृंदग l
मुझ पर तो तुने काबू पाया,
लो मुझसे बड़ा मेरा चाचा आया।
छोड़ो दिल्ली भागो काठमांडू,
सुनो भाई चंगू मंगू,
देखो आया दिल्ली में डेंगू।
यहां नया संविधान है और  नई सरकार है।
बीमारी से लड़ने को मिला,
तेजधार वाली नई तलवार है ।
रामदेव बाबा ने उपाय सुझाया,
स्वदेशी घरेलू उपचार बताया ।
अंग्रेजी दवा लेता खुन चुस ,
उससे अच्छा बकरी दूध, पपिता का जुस।
तुम सब को पता है,
कौरव से अच्छा था पांडू।
सुनो भाई चंगू मंगू,
देखो आया दिल्ली में डेंगू ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें