सुविचार

होली के शुभ अवसर पर शब्द क्रान्ति की तरफ से हार्दिक बधाई एवं नव वर्ष की शुभकामनाये । ...

10 नवंबर 2014

वक्त की पुकार

खग-मृग छोड़ मनुज तन मिला
फिर भी लाखों है शिकवे गिला
गिले-शिकवे भूलाने को
तन-मन में सपने बुनो
वक्त की पुकार सुनो, वक्त की पुकार सुनो
            सपने साकार करने में तुम्हे
            लख-लख कष्ट सहने पड़े
            कर्मवीर सेना की भाँति
            अग्नि की मशाल बनो
            वक्त की पुकार सुनो, वक्त की पुकार सुनो
कर्म-पथ दुर्गम है
वक्त भी न तेरे संगम है
समय समहित करने को
कंटिल पथ तुम सुगम मानो
वक्त की पुकार सुनो, वक्त की पुकार सुनो
            कंटिल पथ पर न लौटे अनन्तर
            सब होगा एक दिन छू-मंतर
            छू-मंतर करने में चाहे
            आसमान टुटे, पहाड़ टुटे
            अन्तर्मन की पहचान करो
            वक्त की पुकार सुनो, वक्त की पुकार सुनो
                                                                जे.पी. हंस

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें