सुविचार

होली के शुभ अवसर पर शब्द क्रान्ति की तरफ से हार्दिक बधाई एवं नव वर्ष की शुभकामनाये । ...

25 नवंबर 2014

चुनावी ड्यूटी का खत


सुना है फिर एक खत आया है
चुनाव कराने के बावत,
मेरा भी बुलावा आया है ।
                   आज चुनाव कराना भी एक जंग है ।
                   नये-नये युवक-युवतियों में काफी उमंग है ।
                   पर जो-जो प्रत्याशी दबंग है ।
                   उन सबके कार्यकर्ताओं में छिड़ी एक जंग है ।
                   पता नहीं ये छिड़ा हुआ जंग,
                   क्या संदेश लाता है ।
                   सुना है फिर एक खत आया है ।
चुनाव पर जाने से पहले
बड़ी खामोशी छाँती है ।
शादी-शुदा लोगों को घर की
बहुत याद आती है,
पर जो कुवाँरे होते हैं उनकी
प्रेमिका आरती उतारती है ।
आरती उतारने का ये कैसी माया है ।
सुना है फिर एक खत आया है ।
                   बैलेट सिस्टम खत्म हुआ है ।
                   अब ईवीएम का जमाना है ।
                   बुथ लुटना, डराना, धमकाना ।
                   ये खबर बहुत पुराना है ।
                   पुराने खबरों से हूँ बेखबर,
                   क्योंकि नया सिस्टम आया है ।
                   सुना है फिर एक खत आया है ।
कर्मचारी होकर भी हम,
एक दिन के अधिकारी बनेंगे ।
बुढ़ा-बुढ़ी या नौजवान,
सभी मुझे पोलिंग अधिकारी कहेंगे
अधिकारी बनकर भी हमें,
हाथों में रंग लगाना है ।
सुना है फिर एक खत आया है ।
                   नोटा पर वोट पड़े या लोटा पर,
                   हमें अपना कर्तव्य निभाना है ।
                   हम सरकारी मुलाजिम है
                   ना हम कोई प्रत्याशी के दिवाना है ।
                   कोई हारे कोई जीते,
                   हमें केवल लोकतंत्र को जिताना है ।
                   सुना है फिर एक खत आया है ।
                   चुनाव कराने के बावत,
                   मेरा भी बुलावा आया है ।
                                                 जे.पी. हंस







कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें